Sun. Oct 25th, 2020

इंडियाएक्सप्रेसन्यूजडॉटकॉम की खबर पर लगी मुहर: दोनों आईपीएस पर हो सकता है निलंबन की कार्यवाही

उत्तर प्रदेश के 2 आईपीएस अजय पाल शर्मा और हिमांशु कुमार पर एफ आई आर दर्ज

खबर पर लगी मुहर: दोनों आईपीएस पर हो सकता है निलंबन की कार्यवाही

शेखर यादव

इटावा। उत्तर प्रदेश के 2 आईपीएस अधिकारी अजय पाल शर्मा और हिमांशु कुमार पर एफ आईआर की गयी है। दोनों अधिकारियों के ऊपर निलंबन की भी तलवार लटक गयी है। नोएडा के पूर्व एसएसपी आईपीएस वैभव कृष्ण ने इन अधिकारियों पर गंभीर आरोप लगाए थे जिसे द संडे व्यूज ने प्रमुखता के साथ पेज वन पर प्रकाशित किया था।

साप्ताहिक समाचार पत्र एवं सोशल मीडिया द संडे व्यूज़ व इंडिया एक्सप्रेस न्यूज डॉटकॉम ने 15 जनवरी 2019 को शीर्षक वैभव कृष्ण कंाड- क्या उत्तर प्रदेश के अपर प्रमुख सचिव,गृह एवं डीजीपी दे रहे हैं भ्रष्टाचार को बढ़ावा शीर्षक से खबर प्रकाशित किया था। द संडे व्यूज़ में खबर छपने के बाद हडक़ंप मच गया था। अजय पल शर्मा और हिमांशु कुमार के साथ ही कथित पत्रकार चंदन राय, स्वप्निल राय और अतुल शुक्ला का नाम भी ट्रांसफर-पोस्टिंग के गिरोह में शामिल था। दोनों आईपीएस अजय पाल शर्मा और हिमांशु कुमार पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगे हैं। आईपीएस अजयपाल शर्मा पर अपराधियों से सांठगांठ और भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं। अजयपाल शर्मा पर एक महिला ने भी आरोप लगाए हैं। एफ आईआर के बाद अजयपाल का वॉइस सैम्पल लिया जा सकता है। आईपीएस हिमांशु कुमार पर ट्रांसफ र- पोस्टिंग के लिये सिफ ारिश का आरोप लगा है।


दरअसल, आईपीएस अजय पाल शर्मा और हिमांशु कुमार पर नोएडा के पूर्व एसएसपी वैभव कृष्ण ने अपराधियों से साठगांठ करने व भ्रष्टाचार समेत तमाम गंभीर आरोप लगाए थे। शासन ने इन आरोपों की जांच के लिए डायरेक्टर विजिलेंस के नेतृत्व में टीम का गठन किया था। दिसंबर 2019 में एसआईटी की रिपोर्ट मिलने के बाद शासन ने विजिलेंस को इस मामले की जांच सौंप दी थी। इस रिपोर्ट में दो आईपीएस के खिलाफ सख्त अनुशासनात्मक कार्रवाई करने की संस्तुति की थी। शासन के निर्देश पर विजिलेंस ने इस मामले की जांच शुरू कर तथ्यों को जुटाते हुये रिपोर्ट तैयार की है। हालांकि, इससे पहले अजय पाल शर्मा के खिलाफ दिये गये सुबूत फ ॉरेंसिक जांच में गलत पाये गये थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *