Tue. Feb 25th, 2020

खबर का असर :अब एनआईसी से ही लगेगी कलेक्ट्रेट,राजस्व परिषद में जवानों की ड्यूटी

डीआईजी रणजीत सिंह का फरमान – आदेश का पालन न करने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई

अफसरों को यदि होमगार्ड की आवश्यकता है तो प्रमुख सचिव, होमगार्ड से अनुमति लें: रंजीत सिंह

शेखर यादव

लखनऊद संडे व्यूज़ की खबरों पर होमगार्ड विभाग के डीआईजी ने मुहर लगा दी है। डीआईजी रंजीत सिंह ने माना कि कलेक्ट्रेट सहित राजस्व परिषद में इस विभाग से रिटायर्ड दो कर्मचारी होमगार्डों पर रौब झाडक़र लंबे समय से वसूली करते चले आ रहे हैं। जिसकी वजह से जहां विभाग की साख खराब हो रही है वहीं जवान कन्फ्यूज हैं कि आखिर वे करे भी तो क्या ? जवानों की समस्याओं को 4 फरवरी 2020 को द संडे व्यूज़ ने   ‘क्या वसूली मैन बृजपाल सिंह और जनार्दन उपाध्याय को विभाग हटायेगा या फि र चलता रहेगा वसूली, वसूली, वसूली का खेल ‘ शीर्षक प्रकाशित किया था। इस खबर को होमगार्ड मुख्यालय पर तैनात डीआईजी रंजीत सिंह ने गंभीरता से लिया और मंडलीय कमांडें,जिला कमांडेंट को पत्र जारी कर इस पर तत्काल रोक लगाने के निर्देश दिये।


10 जनवरी को जारी पत्र में डीआईजी ने स्पष्ट लिखा है कि लखनऊ,कलेक्ट्रेट और राजस्व परिषद में लगने वाले 465 होमगार्ड होमगार्ड वसूली मैन बृजपाल और जनार्दन उपाध्याय के संपर्क में ना रहें। यदि किसी जवान का इनके संपर्क में रहने की सूचना मिली तो उस जवान पर सख्त कार्यवाही की जायेगी। इन जवानों की जो डी पी है वह एनआईसी सॉफ्टवेयर से ही लगायी जाये।

यदि किसी अधिकारी विशेष को किसी चिन्हित होमगाड्र्स की आवश्यकता पड़ती है तो वह प्रमुख सचिव, होमगार्ड एवं शासन से मांग कर सकते हैं। निर्गत किये जा रहे आदेशों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित किया जाये। यह पत्र जारी होने के बाद लखनऊ के अधिकारियों और होमगार्ड जवानों में चर्चा का विषय बना हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *