Sun. Oct 20th, 2019

गांधी जयंती पर नि:शुल्क शिविर में मुफ्त इलाज कर डॉ. राजेश मेहता ने बापू को दिया ‘बर्थ डे गिफ्ट’

गांधी जयंती पर नि:शुल्क शिविर में मुफ्त इलाज कर डॉ. राजेश मेहता ने बापू को दिया ‘बर्थ डे गिफ्ट’

सिटी हॉस्पिटल एण्ड ट्रामा सेंटर में लगे शिविर में 600 मरीजों को नामी-गिरामी डॉक्टरों ने देखा

मरीजों को इलाज के साथ-साथ दवाएं भी मुफ्त में दी गयी

लोग जागरूक हो जाएं तो आधी बीमारी दूर भाग जाएगी: राजेश मेहता

मरीजों को जागरूक करने के साथ-साथ सफाई के प्रति भी जागरूक होना होगा

संजय पुरबिया

लखनऊ। 2 अक्टूबर का दिन पूरा देश गांधी जयंती मनाने में मशगुल है। दूसरी तरफ, शहर के एक हॉस्पिटल में मशहूर डॉक्टरों की टीम मरीजों की जांच कर रहे थे और उन्हें मुफ्त में दवाएं भी दे रहे थे। क्या गरीब,क्या अमीर,सभी बेफिक्र होकर शहर के नामी-गिरामी डॉक्टरों को अपनी बीमारी बता रहे थे और डॉक्टर भी पूरी तनमयता से मरीजों की समस्याओं को सुन रहे थे। लगभग 600 की संख्या में मरीजों ने आज गांधी जयंती पर नि:शुल्क चिकित्सा का भरपूर लाभ उठाया। ये नजारा आलमबाग के सिटी हॅास्पिटल एण्ड ट्रामा सेंन्टर में देखने को मिला। हॉस्पिटल के डायरेक्टर डॉ. राजेश मेहता ने बताया कि गांधी जयंती पर मरीजों के लिए नि:शुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन करा कर जो सुकून मिला उसे शब्दों में बयां नहीं कर सकता…

गांधी जयंती पर सिटी हॅास्पिटल एण्ड ट्रामा सेंटर में सुबह से भी मरीजों की भीड़ उमड़ पड़ी थी। मरीजों की देखरेख एवं सही उपचार के लिए यहां पर डॉ. राजेश मेहता के साथ-साथ डा. ज्योत्सना मेहता,डॉ. वी.पी. आर्या,डॅा. संतोष,डॅा. अब्दुल,डॅा.हरेन्द्र यादव,डॅा. गुलाटी,डॅा.त्रिपाठी,डॅा. अंकुर,डॅा. तरूण मलिक, डॅा. गीतांजली,डा. बंधुल तिवारी मौजूद थें। डॉ राजेश मेहता ने बताया कि शिविर में हड्डी के मरीजों की संख्या अधिक रहा।

इसके अलावा महिलाओं से संबंधित बीमारियों से पीडि़त महिलाओं ने भी शिविर का लाभ उठाया। उन्होंने बताया कि हमलोगों ने मरीजों को जागरूक करने का भी प्रयास किया क्योंकि अधिकांश बीमारी लोगों की लापरवाही की वजह से होती है। यदि लोग अपने स्वास्थ्य को लेकर जागरूक हो जाएं तो उन्हें छोटी-छोटी बीमारियों से जूझना नहीं पड़ेगा।


सिटी हास्पिटल एण्ड ट्रामा सेंन्टर की खूबियों के बारे में श्री मेहता ने बताया कि सरकार की आयुष्मान योजना जिस तरह से गरीबों के लिए वरदान साबित हो रही है,ठीक उसी तरह से इस हास्पिटल में भी गरीबों के लिए योजना चलायी जा रही है। कोई भी गरीब तबका का व्यक्ति अपनी बीमारी का इलाज कराने के लिए सिर्फ 100 रूपए देकर अपनी पर्ची बनवाकर नामी-निगामी डॉक्टरों को दिखा सकता है।

इसके अलावा बीमारियों में भी यहां पर कम से कम पैसों में इस तबके के लोगों का इलाज किया जा रहा है। श्री मेहता ने बताया कि वरिष्ठï नागरिकों के लिए यहां पर पहली बार में 500 रुपए फीस ली जा रही है और जब वे दूसरी बार चेकअप कराने आते हैं तो मात्र 200 रुपए ही फीस ली जाती है। इसके अलावा सभी बीमारियों के एक्सपर्ट डॉक्टर की टीम उनकी समस्याओं को सुनती है उसके बाद उनका इलाज किया जाता है।


डायरेक्टर राजेश मेहता ने आगामी योजनाओं के बारे में बताया कि अगले वर्ष यहां पर 150 बेड का हॉस्पिटल बनाने का लक्ष्य है,उम्मीद है वर्ष 2020 में इस लक्ष्य को पूरा कर लिया जाएगा। यूपी में इस तरह का यह पहला हॅास्पिटल होने का गौरव प्राप्त करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *