Wed. Oct 21st, 2020

बच्चों की सुरक्षा के प्रति कोई भी लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी-मंडलायुक्त

सख्‍त न‍िर्देश- कोविड-19 के प्रोटोकाल का पालन न होने पर कॉलेजों के खिलाफ होगी कार्रवाई

बिना अभिभावकों की अनुमति के कोई भी विद्यालय बच्चों को नहीं बुलाएगा

संजय पुरबिया

लखनऊ । 19 अक्टूबर से विद्यालय खुलने पर जारी शासनादेश के अनुरूप व्यवस्थायें सुनिश्चित होनी चाहिए। इसके अलावा कोविड-19 के प्रोटोकाल का पालन पूरी तरह से होना चाहिए। कोविड-19 के प्रोटोकाल का पालन न किए जाने पर संबंधित विद्यालय के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाएगी। शनिवार को मंडलायुक्त रंजन कुमार ने राजधानी समेत उन्नाव, रायबरेली, सीतापुर, लखीमपुरखीरी और हरदोई जनपद के माध्यमिक विद्यालयों के प्रिंसिपल और शिक्षाधिकारियों को यह निर्देश दिए।

 

 

मंडलायुक्त ने सोमवार से शुरू हो रहीं विद्यालयों में कक्षा नौ से 12 की कक्षाओं को लेकर प्रिंसिपल और शिक्षाधिकारियों के साथ वर्चुअल बैठक की। बैठक के दौरान उन्होंने प्रिंसिपलों और शिक्षाधिकारियों से विद्यालय खुलने को लेकर उनकी प्रगति रिपोर्ट पूछी। उन्होंने स्पष्ट कहा कि कोविड सुरक्षा से संबंधित किसी भी प्रकार की लापरवाही नहीं होनी चाहिए। बच्चों की सुरक्षा सबसे अहम है। शासन द्वारा जारी प्रोटोकॉल का बिंदुवार पालन होना चाहिए। कोविड-19 संक्रमण से बच्चों की सुरक्षा के प्रति कोई भी लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

कहा, बिना अभिभावकों की अनुमति के कोई भी विद्यालय बच्चों को नहीं बुलाएगा। अब लोगों में काफी जागरुकता भी आ गयी है। सरकारी तंत्र भी काफी मजबूत हो गया है अब हम हर तरह की चुनौती का सामना करते हुए आगे बढ़ने को तैयार है। हमें संक्रमण से खुद भी बचना है तथा लोगों को भी बचना है। विद्यार्थियों को संक्रमण से बचाव हेतु जागरूक करना है कि हाथ सैनेटाइज करे, फेश मास्क लगाकर रखें तथा छह फिट की दूरी बनाकर रखे। इस दौरान संयु्क्त शिक्षा निदेशक सुरेंद्र तिवारी, उप शिक्षा निदेशक विभा मिश्रा, डीआइओएस लखनऊ डॉ. मुकेश कुमार सिंह, इसके उपरांत मंडलायुक्त ने उच्च शिक्षा के संबध में भी वीडियो कांफ्रेंसिंग की। जिसमें शिक्षा निदेशक अमित भारद्वाज, क्षेत्रीय उच्च शिक्षाधिकारी आलोक श्रीवास्तव समेत मंडल के 150 विद्यालयों के प्रिंसिपल मौजूद रहें।

  • विद्यालय खुलने पर प्रतिदिन प्रत्येक पाली के उपरांत कक्ष का सैनिटाइजेशन होना चाहिए।
  • कन्टेन्टमेंट जोन के बाहर समस्त शिक्षा बोर्डों के विद्यालयों की कक्षा नौ से 12 तक की कक्षाएं संचालित होंगी।
  • ट्रेम्परेचर परीक्षण के बाद सैनिटाइजेशन करें इसके बाद बच्चों को प्रवेश दें। मास्क लगाना अति आवश्यक है।
  • प्रत्येक विद्यालय में जिला प्रशासन के इन्टीग्रेटेड कंट्रोल रूम का नंबर डिस्प्ले किया जाना चाहिए।
  • यदि किसी विद्यालय में विद्यार्थी, शिक्षक अथवा किसी कर्मचारी को खासी, जुकाम या बुखार है तो उसकी सूचना तत्काल कंट्रोल रूम को दें।
  • कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन कराने के लिए विद्यालयों में एक कमेटी का गठन करें।
  • ऑनलाइन कक्षाएं यथावत चलती रहेंगी उन्हें बंद नहीं किया जाएगा।
  • दो शिफ्टों में 50-50 फीसद बच्चों को बुलाकर नौ से 12 तक की कक्षाएं संचालित की जाएंगी।
  • लंच के समय बच्चे जब मास्क उतारें तो छह फीट की दूरी उनके बीच आवश्यक है। खाने-पीने की कोई सामग्री बच्चे शेयर न करें एक दूसरे से।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *