Tue. Sep 17th, 2019

लंबे समय तक लिवर देगा साथ, इन आदतों पर दें ध्यान

नई दिल्ली

लिवर शरीर का मजबूत अंग है। इसमें खुद को ठीक कर लेने की अद्भुत क्षमता होती है। इसकी ज्यादातर समस्याएं खान-पान और आदतों में सुधार करने से ही ठीक हो जाती हैं। हमारी दिनचर्या और खान-पान का लिवर की सेहत पर गहरा असर पड़ता है। अधिक मसालेदार और वसायुक्त भोजन करना, दूषित पानी का सेवन करना, एल्कोहल व धूम्रपान करना, संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने, पेट संबंधी छोटे-मोटे रोगों को नजरअंदाज करने या ज्यादा दवाएं खाने का बुरा असर लिवर पर पड़ सकता है। लिवर को लंबे समय तक ठीक रखने के लिए पोषक तत्वों से भरपूर संतुलित भोजन खाना बेहद जरूरी है।

साथ ही इन आदतों पर भी ध्यान दें… 

– एल्कोहल और धूम्रपान से बचें। शराब के सेवन से पहले लिवर फूलता है, फिर सिकुड़ने लगता है।
– मोटापा या वजन धीरे-धीरे कम करें। नियमित व्यायाम, योग, प्राणायाम, तेज गति से पैदल चलें।
– अपने मनपसंद खेल खेलें, तैराकी या साइक्लिंग करें।
– कोलेस्ट्रॉल, ब्लड शुगर और ब्लड प्रेशर का स्तर नियंत्रित रखें।
– संतुलित भोजन करें।
– आहार में फाइबर युक्त चीजें जैसे-ताजे फल, हरी सब्जियां, साबुत अनाज, चोकर युक्त आटे से बनी रोटियां शामिल करें।
– शर्करा युक्त चीजें, मिष्ठान, शीतल पेय पदार्थ, जूस, अधिक तला भुना या गरिष्ठ भोजन करने से परहेज करें।
– आइसक्रीम, मिल्क शेक, फ्रूट क्रीम जैसी  चीजें कम मात्रा में लें।
– गैर-जरूरी दवाएं या स्टेरॉएड खाने से बचें। बिना डॉक्टर की सलाह कोई दवा न लें। पूरी नींद जरूर लें। नींद की कमी से भी लिवर पर दबाव पड़ता है।

आयुर्वेद के ये उपाय भी देंगे राहत 
– दिनभर में 8-10 गिलास पानी जरूर पिएं। भोजन से पहले और बाद तकरीबन एक घंटे के अंतराल में पानी पिएं।
’5 ग्राम नीम की अंतर छाल, 5 ग्राम पीपल की छाल का काढ़ा सुबह-शाम पिएं।
– लस्सी को हल्का गुनगुना कर उसमें हल्दी और जीरे का छौंक लगाकर पिएं।
– आक के 2 छोटे नए पत्ते गुड़ के साथ 3 दिन सूरज निकलने से पहले खाएं।
– नियमित रूप से नारियल पानी, संतरे का रस व जौ का पानी पिएं।
– गेहूं के ज्वारे को चबाकर खाएं या उसका जूस पिएं।
– हल्दी वाला पानी पिएं। खाने में हल्दी की मात्रा बढ़ाएं। रात के समय गर्म दूध में एक छोटा चम्मच हल्दी मिलाकर पिएं।
’खाने के साथ गाजर व टमाटर की सलाद खाएं।
– 3 ग्राम अजवायन में एक चुटकी काला नमक मिलाकर खाएं।
– 2 चम्मच पपीते के रस में आधा चम्मच नींबू का रस मिलाकर 2-3 बार लें।
– छोटा चम्मच सेब का सिरका, एक गिलास पानी और एक चम्मच शहद के साथ मिलाकर पिएं।
– एक गिलास पानी में एक छोटा चम्मच मुलेठी की जड़ का पाउडर मिलाकर उबालें। छान कर और ठंडा कर पिएं।
– ग्रीन टी पिएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *