बच्चों के शारीरिक दूरी का विशेष ध्यान रखें। पानी पीने से लेकर छुट्टी के दौरान बच्चों का कहीं पर झुंड नहीं लगना चाहिए। अगर किसी बच्चे, शिक्षक और शिक्षणेत्तर कर्मचारी को सर्दी जुकाम से सबंधित कोई दिक्कत हो तो प्राथमिक उपचार के बाद उसे घर भेजने की व्यवस्ता तत्काल करें। कोविड से संबंधित लक्षण होने पर तो तत्काल हेल्प लाइन नंबर पर फोन कर उसका परीक्षण कराएं। शासन और जिलाधिकारी द्वारा जारी कई गई एसओपी का पूरी तरह से पालन करें।

जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने संभागीय परिवहन अधिकारी एवं सभी विद्यालयों को निर्देश दिए हैं कि कोविड-19 सुरक्षा के मद्देनजर सभी स्कूली वाहनों का तत्काल सैनिटाइजेशन कराया जाए। कक्षा नौ से 12 तक की कक्षाएं 19 अक्टूबर से संचालित होनी हैं। इस लिए सुरक्षा का विशेष ध्यान रखें। विद्यालय खुलने पर प्रति दिन वाहनों का सैनिटाइजेशन होना चाहिए।

19 अक्टूबर से विद्यालय में बच्चों को बुलाए जाने के दौरान अगर किसी भी प्रकार की गड़बड़ी कोविड-19 के प्रोटोकाल को लेकर हुई। बच्चों के लिए कोई भी लापरवाही बरती गई तो उसकी जिम्मेदार प्रिंसिपल होंगे। सीधे प्रिंसिपल पर कार्यवाही की जाएगी। शिक्षाधिकारी इस दौरान राउंड लेंगे। पानी पीने के स्थान पर भी बच्चों का झुंड नहीं लगा होना चाहिए। मंगलवार को डीआइओएस ने सभी विद्यालयों के प्रिंसिपलों के साथ वर्चुअल बैठक के दौरान यह निर्देश दिए।