Sun. Oct 25th, 2020

सहकारिता विभाग भर्ती घोटाला के विलेन नंबर 4: धीरेन्द्र सिंह – एमडी (पैक्सपेड)

संजय पुरबिया  

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की सरकार में 2012-17 के दरम्यान सहकारिता विभाग में 5127 पदों पर नियुक्तियां निकाली गयी थी जिसमें अफसरों ने बेखौफ होकर लूट मचायी। विभाग के मंत्री शिवपाल सिंह यादव थे इसलिये सभी पदों पर एक ‘विशेष जाति’ के अभ्यर्थियों का ही चयन किया गया। शासन से लेकर सहकारिता विभाग के  सभी अफसरों ने अधिसंख्य पदों पर अयोग्य अभ्यर्थियों का चयन कर यह साबित कर दिया कि जब ‘मंत्रीजी का आशीर्वाद’ मिले तो नियमों की धज्जियां जमकर उड़ाओ। वैसे भी सपा सरकार में भतीजा मुख्यमंत्री तो चाचा कद्दावर मंत्री थे। अब भला कौन मंत्री और उनके मुंहलगे अफसरों के खिलाफ आवाज उठाता। खैर,भर्ती हो गयी और बेरोजगारों का हक मारा गया। इसे बेरोजगारों की ‘बददुआ’ कहें या फिर यूपी की सियासत की ‘बाजीगरी’ कि बेरोजगारों और अवाम से सत्ता से अखिलेश सरकार को ‘बेदखल’ किया और उस पर भाजपा को ‘राज’ करने का मौका दिया।

 धीरेन्द्र सिंह वर्मा – सेवा मंडल में जी.एम. (सपा सरकार में) 

भाजपा सरकार में धीरेन्द्र सिंह वर्मा उ. प्र. राज्य सहकारी निर्माण निगम (पैक्सपेड) में एमडी हैं। धीरेन्द्र साहेब का क्या कहना,समाजवादी पार्टी की सरकार में लूट मचाने के बाद भाजपा सरकार में भी भ्रष्टाचार के सारे रिकार्ड अपने नाम कराने पर आमादा हैं। जी हां, योगी राज में इन्हें रत्तीभर खौफ नहीं है। खुलकर भ्रष्टाचार की बैटिंग कर रहे हैं,मसलन अपने तीन वर्ष के कार्यकाल के दौरान धीरेन्द्र सिंह वर्मा  ने नियमों की ऐसी की तैसी कर चहेतों को दे रहे हैं टेंडर,निर्माण कार्य इस तरह से बांट रहे हैं जैसे रेवड़ी बांटी जाती है…। इसका खुलासा शीघ्र करेंगे क्योंकि अभी बात सपा सरकार में हुयी भर्ती घोटाले की कर रहे हैं।

बता दें कि धीरेन्द्र सिंह वर्मा ने भर्ती में फार्म निकलवाने सहित विज्ञापन निकलवाने का काम किया था। इसके अलावा अध्यक्ष महोदय  जिस तरह का फर्जी काम बताते उसे पूरी निष्ठा से धीरेन्द्र सिंह पूरा करते थे। इनलोगों की सपा सरकार के बाद भाजपा सरकार में भ्रष्टाचार के प्रति निष्ठा देख विभागीय लोग भौचक्का हैं।  सपा सरकार में भर्ती घोटाले एक – एक विलेन भाजपा सरकार में मलाईदार कुर्सी पर क्यों बिठाया गया है? मैं तो कहुंगा, भईया,इस चक्कर में ना पड़ो,आखिर भाजपा वालों की भी तो अपनी झोली भरनी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *