होमगार्ड ट्रेनिंग सेंटर रामनगर में ‘मस्टर रोल’ का ‘खेला’ : प्रमोटी मंडलीय जीसी कटियार चेले से करा रहें ‘घोटाले का खेला’…

0
568

ट्रेनिंग सेंटर में नायाब तरीके से हो रहा ‘मस्टर रोल घोटाला’: ‘प्रमोटी मंडलीय’ कटियार का गुर्गा अंजन भगत का खेला…

प्रमोटी मंडलीय कमांडेंट जी सी कटियार ने डीजी के आदेश को रखा ताख पर,बनाया नियम तोडऩे का नियमावली

ट्रेनिंग सेंटर के बैंडमैन शंकर भगवान के भूत हैं जो एक बैंडमैन दो जगह उपस्थित रहता है?

राजाराम-बैंडमैन के मिर्जापुर शादी में था और ड्यूटी पर भी था। कटियार जी,आपका जवान है या भूत?

महेन्द्र सिंह ने कराया हाइड्रोसिल का ऑपरेशन,ये हॅास्पिटल में भी थे और आफिस में भी ? कैसे कटियार जी ?

हीरालाल-बैंडमैन शादी में राजातालाब गये थे,ड्यूटी पर भी थे ? कैसे प्रमोटी कटियार साहेब ?

दुर्गाप्रसाद-बैंडमैन अपनी मां की तेरही में नारायणपुर में थे,ड्यूटी पर भी मौजूद ? कैसे प्रमोटी कटियार जी ?

  संजय पुरबिया

लखनऊ।

लखनऊ। बाबा भोलेनाथ की नगरी बनारस अब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र के नाम से भी विख्यात है। विधानसभा चुनाव को लेकर एक बार फिर भोलेनाथ की नगरी बनारस सुर्खियों में है। बनारस में रामनगर ट्रेनिंग सेंटर की खबरें भी खूब सुर्खियां बटोर रही है। ट्रेनिंग सेंटर में प्रमोटी मंडलीय कमांडेंट जी.सी.कटियार के निर्देशन में नियमों तो तोडऩे और येन-केन प्रकारेण ‘माल बटोरने‘ की ‘धांसू ट्रेनिंग‘ दी जा रही है। हालांकि इस ट्रेनिंग में प्रमोटी कटियार के चंद गुर्गे ही पूरी तरह से मुश्तैद होकर काम कर रहे हैं। प्रमोटी का इनके सिर पर हाथ होने की वजह से यहां तैनात हवलदार प्रशिक्षक सहित कुछ कर्मचारी प्रधानमंत्री तक को अपशब्द कहने की हिमाकत फेसबुक पर कर चुके हैं। पुरानी बात छोड़ अब नये कारनामों का खुलासा करता हूं। रामनगर ट्रेनिंग सेंटर में ‘मस्टर रोल‘ का ‘खेला‘ प्रमोटी का खास गुर्गा हवलदार प्रशिक्षक अंजन भगत कर रहा है। यदि नहीं तो फिर हम यही कहेंगे कि ट्रेनिंग सेंटर पर तैनात बैंडमैनों पर भोले बाबा का ‘भूत‘ सवारी कर रहा है जिसकी वजह से एक जवान ड्यूटी भी करता है और 50 किलो मीटर दूर अपने बच्चों की शादी भी कराता है…। क्या ये संभव है ? यदि नहीं तो फिर इसके पीछे का खेला क्या है, हम आपको बताते हैं…।

हकीकत ये है कि बैंडमैन बिना अवकाश लिये हवा में गायब हो जाते हैं। बैंड इंचार्ज अंजन भगत की शह पर दो बैंडमैन जिनके घरों में शादी था, एक बैंडमैन अपने हाइड्रोसिल का आपरेशन कराने चला गया, तो एक बैंडमैन अपनी मां की तेरही मना रहा था। चौंकाने वाली बात यह है कि उक्त बैंडमैनों ने अवकाश के लिये आवेदन नहीं किया। बताया जाता है कि बैंडइंचार्ज के इशारे पर सभी गायब हो गये और जितने दिन गायब रहें, उनका पूरे महीने का वेतन बना दिया गया।

7 मई 2021 को बैंडमैन राजाराम के लडक़े की शादी थी। राजाराम 1 से लेकर 7 मई तक अपने घर मिर्जापुर गया था। ट्रेनिंग सेंटर,रामनगर के उपस्थिति रजिस्टर,जीडी में उसकी उपस्थिति दिखायी गयी है। जब राजाराम मिर्जापुर में शादी में थे तो ट्रेनिंग सेंंटर पर उनकी उपस्थिति किसने दर्ज की ? इसी तरह 20-24 सितंबर 2021 तक बैंडमैन महेन्द्र सिंह ने हाइड्रोसिल का आपरेशन नगर पालिका के सामने प्रकाश अस्पताल में कराया था। जब हाइड्रोसिल का आपरेशन हुआ था तो महेन्द्र सिंह ट्रेनिंग सेंटर पर कैसे तैनात थे ? भईया कोई फुंसी या फोडिया नाहीं रहल,इ हाइड्रोसिल के चीरल गईल रहल,बुझल की नाहीं…बड़-बड़ेे हालत खराब रहेला…

 

इतना ही नहीं, 15-16 जून 2021 बैंंडमैन हीरालाल के लडक़े की शादी थी।  इसकी भी उपस्थिति रजिस्टर,जीडी में उपस्थिति दिखायी गयी है। 12 अक्टूबर 2021 को बैंडमैन दुर्गा प्रसाद के मां की तेरही थी। दुर्गाप्रसाद अपने मां की तेरही नारायणपुर में करा रहा था लेकिन बैंड इंचार्ज ने इसे उपस्थिति दिखाया गया। खास बात यह है कि जब कोई बैंडमैन अपने घर की शादी,तेरही या अपना आपरेशन कराने के लिये अवकाश ले रखा हो तो फिर उसकी उपस्थिति ट्रेनिंग सेंंटर पर किसके कहने पर और क्यों दिखायी गयी ? इससे किसको क्या फायदा मिल रहा है जो नियमों के खिलाफ जाकर इस तरह का कृत्य कर रहा है ?

सीधी बात करें तो बैंड इंचार्ज अंजन भगत अवकाश वाले बैंडमैनों को फर्जी तरीके से उपस्थित दिखाकर भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने का काम कर रहा है। जब एक कर्मचारी जितने दिनों तक गायब है,उसका उतने दिनों का वेतन कटना चाहिये लेकिन रामनगर ट्रॅनिंग सेंटर पर ‘बिना बताये गायब होने वाले बैंडमैनों’ का  भी वेतन बनाया जा रहा है।

साफ है कि गायब होने वाले दिनों का वेतन बनाने का पैसा बैंड इंचार्ज अंजन भगत की जेब में जा रहा है। उक्त जितने भी बैंडमैन मसलन राजाराम,महेन्द्र सिंह, हीरालाल या दुर्गाप्रसाद ने जब अवकाश नहीं लिया तो इनकी पूरी सैलरी किसके कहने पर बनायी गयी ? क्या ये सरकार के राजस्व की हानि नहीं है ? क्या ये मस्टर रोल घोटाले का दूसरा रुप नहीं है ? इससे साफ तौर पर जाहिर होता है कि मस्टर रोल घोटाले में अकेले हवलदार प्रशिक्षक अंजन भगत शामिल नहीं है…। कहीं इस खेल का मास्टर माइंड प्रमोटी तो नहीं है ? प्रमोटी मंडलीय कमांडेंट जी.सी.कटियार जब से रामनगर ट्रेनिंग सेंटर में तैनात, तब से लेकर अभी तक के जितने कर्मचारियों व बैंडमैनों ने अवकाश लिया है,सभी की जांच करानी चाहिये…।

भईया,द संडे व्यूज़ तो सच ही लिखेगा,देखते हैं कब तक भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने वालों पर नहीं होती है कार्रवाई….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here