जीआरपी का गुडवर्क : पुलिस ने टीम के साथ यात्रियों को अपना शिकार बनाने वाले गैंग को धर-दबोचा

0
69

माडनाईज्ड गैंग के निशाने पर रेलवे ,बस स्टेशन,होटलों में आने वाले यात्री होते हैं:सीओ संजीव सिन्हा

गैंग में कई लोग हैं शामिल,यात्री थोड़ी देर के लिये हटा,उसका सामान गायब कर देते हैं

आलमबाग में 28 किलो चांदी इसी गिरोह ने लूटा था :सीओ,जीआरपी संजीव सिन्हा

सीओ,प्रथम संजीव कुमार सिन्हा ने इंस्पेक्टर नवरत्न गौतम सहित पूरी टीम को दी बधाई

संजय पुरबिया

लखनऊ। रेलवे में एक ऐसा गैंस है जो ‘माडनाईज’ तरीके से रेल यात्रियों को अपना शिकार बना रहे हैं। जिस स्टेशन वीआईपी यात्री दिखते हैं तो इस गैंग के लोग मोबाइल से एक दूसरे को मैसेज भेज कर बताते हैं कि फलां यात्री की अटैची को चोरी करना है और जैसे ही यात्री सामान अकेला छोड़ सामान लेता है,उसका सामान गायब हो जाता है। गैंग के लोग रेकी करते रहते हैं और एक हाथ से दूसरे हाथ में चोरी का सामान थमाकर स्टेशन परिसर से गायब हो जाते हैं। इस शातिर गैंग के निशाने पर रेलवे स्टेशन,बस स्टेशन,होटल एवं बाजार है। इस गैंग में अंबेडकरनगर के शातिर अपराधी शामिल हैं। लखनऊ जीआरपी के हत्थे इस गैंग के तीन अभियुक्त चढ़े और उनके पास से एक लाख रुपये और एक मोबाइल बरामद किया गया है। ये वही अपराधी हैं जिन्होंने दिल्ली निवासी विपिन कुमार का चारबाग स्टेशन से बैग चोरी कर लिया था जिसमें साढ़े तीन लाख रुपये रखे थे। पुलिस को पूरी उम्मीद है कि इस गैंग में शामिल और लोगों को भी गिरफ्तार किया जा सकता है जिनका शिकार रेलवे और बस स्टेशन के भोले-भाले यात्री होते हैं। जीआरपी के सीओ, प्रथम संजीव कुमार सिन्हा ने आज जीआरपी लाईन में पत्रकार वार्ता के दौरान गुडवर्क की जानकारी दी। इस दौरान श्री सिन्हा ने इस गैंग को गिरफ्तार करने वाले जीआरपी इंस्पेक्टर नवरत्न गौतम सहित पूरी टीम को बधाई दी।


सीओ संजीव कुमार सिन्हा ने बताया कि गिरफ्तार अभियुक्त गुडडू पुत्र फूलचंद ,अखिलेश पुत्र दयाराम एवं वीरेन्द्र कुमार पुत्र दयाराम (तीनों अंबेडकरनगर के रहने वाले हैं )जीआरपी इंस्पेक्टर नवरत्न गौतम की जांबाज टीम 20 दिसंबर को केकेसी पुल के ऊपर से गिरफ्तार किया। तीनों से जब सख्ती बरती गयी तो उन्होंने कुबूला कि सभी अंबेडकरनगर के रहने वाले हैं और मोबाइल से रेकी कर रेलवे स्टेशन,बस स्टेशन,बाजार और होटलों मेें ठहरने वाले लोगों को अपना शिकार बनाते हैं। यात्री अपना सामान रखकर थोड़ी देर के लिये भी इधर से ऊधर हुआ,गारंटी है कि उसका सामान गायब हो जायेगा। ये जिस जगह यात्रियों केे अपना शिकार बनाते हैं,वहां पर चार से पांच की संख्या में गैंग के लोग मौजूद रहते हैं। एक सामान कर आगे वाले को थमा देगा,उसके बाद वो तीसरे को…और फिर सामान गायब…।

श्री सिन्हा ने बताया कि तीनों अभियुक्तों ने बताया कि आलमबाग थाना क्षेत्र में उन्हीं लोगों ने 28 किलो चांदी चोरी किया था। इसी तरह, 30 नवंबर को विपिन कुमार पुत्र रमेश चंद्र निवासी रामनगर एक्सटेंशन कृष्णानगर,दिल्ली ने थाना जीआरपी,नई दिल्ली में मुकदमा दर्ज कराया था कि लखनऊ स्टेशन पर नई दिल्ली सुपर फास्ट एक्सप्रेस में सीट पर बैग रखकर प्लेटफार्म पर टहल रहा था,तभी अज्ञात लोगों द्वारा बैग चोरी कर लिया गया जिसमें साढ़े तीन लाख रुपये रखे थे। इस घटना को भी इसी गैंग ने अंजाम दिया था।

श्री सिन्हा ने बताया कि पूछताछ जारी है और उम्मीद है कि इस गिरोह के और सदस्यों की भी शीघ्र गिरफ्तारी होगी। इस दौरान सीओ श्री सिन्हा ने इस गैंग को धर-दबोचने वाली टीम उप -निरीक्षकविपिन कुमार सिंह-चौकी प्रभारी जीआरपी, सिटी थाना,उप -निरीक्षक सुधीर कुमार राठी-जीआरपी,चारबाग,उप- निरीक्षक आशीष सिंह-जीआरपी अनुभाग,एएसआई धर्मेन्द्र यादव, हे.कां. इमरान,पारसनाथ वर्मा,आशीष तिवारी,संजीव कुमार सिंह,त्रिलोकीनाथ,कां. प्रदीप यादव,अक्षय त्यागी एवं बलवीर सिंह को बधाई दी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here