इस्तीफा देकर भावुक हूं- पूर्व आईएएस अभिषेक सिंह

0
108

फिल्मी दुनिया में भी रहे हैं सक्रिय

भाजपा के टिकट पर लड़ सकते हैं चुनाव

2011 में नौकरी, 2023 में इस्तीफा

जौनपुर। बारह साल आईएएस की नौकरी करने के बाद इस्तीफा देकर भावुक हूं। नौकरी ने बहुत कुछ दिया। बहुत कुछ सीखा जो समाजसेवा में मददगार साबित हो रहा है। चुनाव लड़ने का अभी सोचा नहीं है। मैं समाजसेवा ही करना चाहता हूं। यह बातें बृहस्पतिवार को पूर्व आईएएस अभिषेक सिंह ने खास बातचीत में कहीं।

केराकत तहसील के टिसौरा गांव निवासी आईएएस अभिषेक सिंह का इस्तीफा आखिरकार बृहस्पतिवार को मंजूर हो गया। अभिषेक ने अक्तूबर 2023 में इस्तीफा दिया था। जिसे केंद्र सरकारी की संस्तुति के बाद प्रदेश सरकार ने भी मंजूरी दे दी है। अभिषेक सिंह ने कहा कि नौकरी ने ही मुझे पहचान दी। इस्तीफा मंजूर होने के बाद अच्छा महसूस नहीं कर रहा हूं। नौकरी न होने की कसक है। चुनाव लड़ने के बारे में पूछने पर अभिषेक ने कहा कि उन्होंने इस बारे में दूर-दूर तक नहीं सोचा है।

हालांकि पूर्व आईएस के इस्तीफे को लेकर जौनपुर में पुरजोर चर्चा है कि अभिषेक सिंह जौनपुर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ सकते हैं। वह सत्तापक्ष के कई बड़े नेताओं से सम्पर्क में हैं। टिकट वितरण को देखते हुए ही उनका इस्तीफा विचाराधीन रखा गया था। चुनाव करीब आते उसे मंजूर किया गया है।

जौनपुर लोकसभा सीट को लेकर शहर में काफी चर्चा है। चर्चा के मुताबिक पूर्व आईएएस अभिषेक सिंह को भारतीय जनता पार्टी जौनपुर लोकसभा सीट से टिकट दे सकती है। हालांकि भाजपा का टिकट किसे मिलेगा यह कहना अभी मुश्किल है। आईएएस अभिषेक सिंह ने 2011 में नौकरी की शुरूआत की थी। उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा में 94वीं रैंक हासिल की थी। साल 2013 में उन्हें झांसी में बतौर जॉइंट मजिस्ट्रेट तैनाती मिली। साल 2022 में उन्हें गुजरात विधानसभा चुनाव में प्रेक्षक बनाकर भेजा गया। जहां एक फोटो वायरल होने पर चुनाव आयोग ने उन्हें हटा दिया था। अक्तूबर 2023 में अभिषेक ने इस्तीफा दे दिया।
पूर्व आईएएस अभिषेक सिंह को एक्टिंग का शौक था। साल 2020 में उन्होंने पहली बार मशहूर सिंगर बी प्राक के गाने से इस सफर की शुरूआत की। इसके बाद मशहूर गायक जुबिन नौटियाल के एलबम, वेब सीरीज दिल्ली क्राइम सीजन-2, शॉर्ट मूवी चार पंद्रह, सिंगर हार्डी संधू के गाने के साथ ही सनी लियोनी के साथ भी गाने में अभिनय किया है।अभिषेक के दादा का स्व. झिम्मल सिंह किसान थे। पिता कृपाशंकर सिंह सेवानिवृत्त आईपीएस हैं। दो भाई एक बहन में सबसे बड़े अभिषेक की पत्नी दुर्गा शक्ति नागपाल भी आईएएस हैं और वर्तमान में बांदा की जिलाधिकारी हैं। इनकी दो बेटियां हैं। इसमें एक 7 वर्षीय दानिया व दूसरी 2 वर्षीय डिगारा है।
अभिषेक के दादा का स्व. झिम्मल सिंह किसान थे। पिता दो भाई हैं। जिसमें अभिषेक के पिता कृपाशंकर सिंह आईपीएस थे और मेरठ में डीआईजी पद से रिटायर हुए। चाचा ओमप्रकाश सिंह क्षेत्राधिकारी पद से गाजियाबाद से रिटायर हुए। वर्तमान में ओमप्रकाश सिंह गाजियाबाद में सपरिवार रहते हैं। अभिषेक अपने पिता के दो बेटे हैं। उनकी छोटी बहन अर्चना सिंह गुड़िया एमबीबीएस करके अमेरिका में डॉक्टर हैं। गुड़िया की शादी 2021 में हुई। छोटे भाई अमित कुमार सिंह एमबीबीएस करके दिल्ली में कार्यरत हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here