सीएम योगी आदित्यनाथ का बड़ा आरोप: अहमदाबाद सीरियल ब्लास्ट के आतंकियों से है सपा का कनेक्शन

0
105

संवाददाता

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुजरात के अहमदाबाद में वर्ष 2008 में हुई आतंकी घटना को लेकर वहां के न्यायालय के फैसले के बाद समाजवादी पार्टी पर निशाना साधा। कहा कि सीरियल ब्लास्ट हुए थे। दर्जनों लोग मारे गए थे। उस सीरियल ब्लास्ट में शामिल कुछ आतंकियों का संबंध आजमगढ़ से था। कुछ आतंकवादियों को फांसी तो कुछ को आजीवन कारावास की सजा हुई है। जिन्हें सजा हुई है, उनका संबंध समाजवादी पार्टी से है। समाजवादी पार्टी नहीं, यह दंगावादी पार्टी है। इनका नाम समाजवादी, काम दंगावादी और सोच केवल अपने स्वयं के परिवार तक सीमित है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शुक्रवार शाम मध्य विधानसभा क्षेत्र के बालू अड्डे में भाजपा प्रत्याशी रजनीश गुप्ता के समर्थन में जनसभा को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि विकास की सोच न होने के कारण पूरे प्रदेश को अराजकता की भट्टी में झोका गया। उसकी कीमत को लंबे समय तक प्रदेश ने चुकाया है। आज आप देख सकते हैं कि पांच साल में यूपी के अंदर कोई दंगा नहीं हुआ। दंगाईयों को मालूम है कि दंगा करेंगे तो अगले दिन उनके पोस्टर चौरोहे पर छपेंगे और तीसरे दिन घर में नोटिस पहुंच जाएगी। पांच वर्ष में प्रदेश में कोई आतंकी घटना नहीं घटित हुई, क्योंकि आतंकियों को मालूम है अगर किसी ने आतंकी घटना को अंजाम दिया। न केवल आतंकवादी की ही नहीं उसके प्रश्रयदाता का क्या हाल हाेगा यह सोचकर भारत विरोधी गतिविधियों में लिप्त लोगों की रूहें कांप जाती होंगी। वर्ष 2017 के पहले प्रदेश को जाति के नाम पर, क्षेत्र और मत और मजहब के आधार पर यहां के सामाजिक ताने बाने को इतना छिन्न भिन्न कर दिया गया था, कि हर तीसरे दिन एक दंगा होता था। महीनों कफ्र्यू लगा रहता था।

बाजारों में बमबाजी होती थी। गुंडागर्दी का नग्न तांडव होता था। पहले गरीबों का पैसा इत्र वाले मित्र के घर पहुंच जाता था। विकास के नाम पर डकैती डाली जाती थी। गरीब देखता रह जाता था और कल्याणकारी योजनाओं का बंदरबांट हो जाता था। पहले महोत्सव के नाम पर भददा मजाक होता था। आज दीपोत्सव होता है। यूपी के अंदर समाजवादी पार्टी की सरकार के समय पांच साल में केवल 18 हजार गरीबों के मकान स्वीकृत हुए थे। किसी गरीब, दलित को मकान नहीं मिला था। पांच वर्ष के दौरान भाजपा की डबल इंजन की सरकार ने प्रदेश के अंदर 45 लाख 50 हजार गरीबों को एक-एक आवास उपलब्ध कराया है। यहीं नहीं 2.61 करोड़ लोगों को शौचालय , 1.21 लाख मजरों तक विद्युतीकरण कर 23 लाख परिवार को बिजली दी।

कोरोना प्रबंधन को दुनिया ने सराहा है। अभी एक करोड़ टैबलेट बांटे हैं युवाओं को। सरकार बनने पर 10 मार्च के बाद दो करोड़ और लोगों को टैबलेट बांटेंगे। लाेग कोरोना वैक्सीन के खिलाफ दुष्प्रचार करते थे। आज वैक्सीन के कारण तीसरी वेव कब आए कब चली गयी यूपी के अंदर किसी को पता नहीं चला। सीएम ने यह भी कहा कि यूपी की भाग्यविधाता विधानसभा लखनऊ मध्य क्षेत्र में आता है। यहां आजादी के 70 साल बाद भी बिजली के तार लटकते थे। सड़कें जर्जर थीं। यहां तनाव का माहौल रहता था। आज यह शहर और मध्य विधानसभा क्षेत्र स्मार्ट सिटी में शामिल हो गया है। यूपी में 15 करोड़ गरीब जनता को डबल डोज और फ्री राशन उपलब्ध करा रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here