पहले दो घंटे में कुल 7.93 प्रतिशत मतदान, बागपत में सर्वाधिक तो गाजियाबाद में सबसे कम वोटिंग

0
347

इन जिलों में मतदान : शामली, मुजफ्फरनगर, मेरठ, बागपत, गाजियाबाद, हापुड़, गौतम बुद्ध नगर, बुलंदशहर, अलीगढ़, मथुरा और आगरा में आज मतदान होगा। इसमें भी सर्वाधिक 15-15 उम्मीदवार मुजफ्फरनगर और मथुरा में हैं। सबसे कम पांच प्रत्याशी अलीगढ़ की इगलास (सुरक्षित) सीट पर हैं

पहले दो घंटे में कुल 7.93 प्रतिशत मतदान, बागपत में सर्वाधिक तो गाजियाबाद में सबसे कम वोटिंग

शामली में गठबंधन प्रत्याशी पर दबाव बनाकर वोट डलवाने के आरोप में केस दर्ज

मथुरा में मंत्री श्रीकांत शर्मा ने डाला वोट, बोले- भाजपा जीतेगी 300 से अधिक सीट

मेरठ में इवीएम में खराबी से मतदान बाधित

ब्यूरो

लखनऊ। देश की सर्वाधिक जनसंख्या वाले राज्य उत्तर प्रदेश में 18वीं विधानसभा के गठन के लिए सात चरणों में होने वाले मतदान में पहले चरण की वोटिंग कोहरे तथा ठंड के बाद भी शुरू हो गई है। मतदाता सात बजे से पहले ही केन्द्रों में पहुंच गए थे। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2002 में पहले चरण के मतदान में 11 जिलों के 58 विधानसभा क्षेत्र के मतदाता आज अपने अधिकार का प्रयोग कर रहे हैं। प्रात: सात बजे से शाम छह बजे तक होने वाले मतदान में आज प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार के नौ मंत्रियों की किस्मत ईवीएम में कैद हो जाएगी।

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव में पहले चरण के मतदान में 11 जिलों में पहले दो घंटे यानी सात से नौ बजे तक कुल 7.93 प्रतिशत मतदान हुआ है। घने कोहरे तथा ठंड के बीच सात बजे से मतदान शुरु होने से पहले ही लोग मतदान केन्द्र के बाहर एकत्र थे। दो घंटे में बागपत में सर्वाधिक 8.93 और गाजियाबाद में सबसे कम 7.37 प्रतिशत मतदान हुआ है। उत्तर प्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग के अनुसार दो घंटे (7 से 9 बजे) के बाद दो घंटे के बाद आगरा में 7.53 अलीगढ़ में 8.26, बागपत में 8.93, गौतमबुधनगर में 8.33, गाजियाबाद में 7.37, हापुड़ में 8.20, मथुरा में 8.30, मेरठ में 8.44, मुजफफरनगर में 7.50 तथा शामली में 7.70 प्रतिशत मतदान हुआ।

शामली में समाजवादी पार्टी व राष्ट्रीय लोकदल के प्रत्याशी पर दलित समाज पर दबाव बना कर वोट डलवाने के आरोप में पुलिस ने जिला पंचायत सदस्य उमेश कुमार के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया। शामली के थानाभवन विधानसभा सीट के गढ़ी पुख़्ता थाना क्षेत्र के गांव भैंसवाल में सुबह सात बजे से मतदान चल रहा है। यहां पर आरोप है कि रालोद नेता और जिला पंचायत सदस्य उमेश कुमार दलित समाज के लोगों को धमकाकर गठबंधन के पक्ष में वोट करने का दबाव बना रहे थे। समाज के लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। गढ़ी पुख्ता पुलिस ने इस मामले में उमेश कुमार समेत कई लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।शामली की जिलाधिकारी जसजीत कौर ने सुबह मतदान शुरू होते ही अधिकांश मतदान केन्द्र का दौरा किया। उन्होंने बताया कि सभी बूथ पर मतदान का काम चल रहा है। कुछ बूथों से ईवीएम में खराबी का मामला सामने आने के बाद ईवीएम में मिली खराबी को दूर किया गया। कुछ ईवीएम को बदला भी गया है। जिले में सभी जगह पर शांतिपूर्ण मतदान जारी है। कहीं से भी कानून कानून-व्यवस्था खराब होने के बारे में कोई शिकायत नहीं मिली है।

 मथुरा से भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी और योगी आदित्यनाथ सरकार में ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शमा ने भी अपना वोट डाला। मतदान के बाद श्रीकांत शर्मा ने कहा कि यह चुनाव बहन-बेटियों की सुरक्षा से जुड़ा चुनाव है। बागपत और मेरठ में कोहरे और ठंड के बीच में भी मतदाता पहुंचे, लेकिन कई जगह पर ईवीएम में खराबी के कारण उनको कुछ देर इंतजार करना पड़ा। बागपत के खेकड़ा के जैन इंटर कालेज के बूथ नंबर 231 पर ईवीएम आधे घंटे से खराब थी। इसके साथ ही रटौल कस्बे के सेंट मेरी इंटर कॉलेज में दो बूथों पर बीस मिनट बाद मतदान शुरू हुआ।मेरठ में भी ईवीएम में खराबी के कारण मतदान बाधित रहा। कैंट में बूथ नंबर 20 पर ईवीएम मशीन खराब होने से मतदान प्रभावित हो गया आगरा, मथुरा, अलीगढ़, बागपत, शामली, मुजफ्फरनगर, गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर, हापुड़, बुलंदशहर तथा शामली में मतदाता ठंड के बाद भी केन्द्रों के बाहर पहुंचे हैं। कोविड प्रोटोकाल का पालन कर यह सभी अपने अधिकार का प्रयोग कर रहे हैं। आगरा जनपद की नौ विधानसभा सीटों में मतदाता लाइन में लगे हैं। पहले चरण में अलीगढ़ में 27.65 लाख, मुजफ्फरनगर में 20.24 लाख तथा बुलंदशहर में 26 लाख से ज्यादा मतदाता वोट डालेंगे।ज‍िले में आज 34.77 लाख मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर 107 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे। 3911 बूथों में मतदान शाम छह बजे तक मतदान होगा। डीएम प्रभु एन सिंह ने बताया कि गुरुवार सुबह छह बजे 3911 बूथों पर इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) में प्रत्याशियों के प्रतिनिधियों की मौजूदगी में माकपोल हुुआ। माकपोल आधा घंटा हुआ। ठीक सुबह सात बजे मतदान शुरू हो गया है। हर बूथ में ईवीएम से वीवीपैट कनेक्ट है। मतदान के सात सेकेंड के बाद वीवीपैट में रसीद दिख रही है और फिर यह बाक्स में गिर रही है।

उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव के तहत पहले चरण में पश्चिमी उत्तर प्रदेश व ब्रज क्षेत्र के 2.28 करोड़ मतदाता 623 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला करेंगे। इनमें 73 महिला प्रत्याशी शामिल हैं। पहले चरण के चुनाव में जहां भाजपा के सामने 2017 के प्रदर्शन को दोहराने की चुनौती है तो वहीं सपा- रालोद गठबंधन भी पहले चरण से ही बढ़त बनाने के लिए जोर आजमाइश में लगा हुआ है। इनके साथ बसपा व कांग्रेस भी पूरे दमखम से चुनाव मैदान में है।सभी मतदान केंद्रों पर व्हील चेयर : प्रदेश में भयमुक्त और निष्पक्ष मतदान के लिए सुरक्षा के व्यापक इंतजाम हैं। दिव्यांगों की सुविधा के लिए सभी मतदान केंद्रों पर व्हील चेयर की भी व्यवस्था की गई है। पहले चरण में 10853 मतदान केंद्रों के 26027 मतदेय स्थलों (पोलिंग बूथ) पर वोट डाले जाएंगे। पहले चरण में 467 आदर्श मतदान केंद्र बनाए गए हैं। 139 पिंक पोलिंग बूथ भी बने हैं इनमें सभी कर्मी महिलाएं होंगी। 61 पीडब्ल्यूडी पोलिंग बूथ भी बनाए गए हैं। इनमें दिव्यांगजन मतदान कर सकेंगे।

चुनाव आयोग 50 प्रतिशत पोलिंग बूथों की वेबकास्टिंग करा रहा है। यानी इन केंद्रों पर वेबकास्टिंग के जरिए सीधी नजर रखी जा सकेगी। वेबकास्टिंग के जरिए जिला निर्वाचन अधिकारी, मुख्य निर्वाचन अधिकारी व भारत निर्वाचन आयोग पोलिंग बूथों पर तीनों स्तर से निगरानी करेंगे।  इस बार मतदान केंद्रों पर मतदाताओं ने किसे वोट दिया यह भी देख सकेंगे। चुनाव आयोग ने सभी मतदान बूथों पर ईवीएम के साथ ‘वोटर वेरिफाइड पेपर आडिट ट्रेल’ (वीवीपैट) भी लगाया है। इसके जरिए मतदाता देख सकेंगे कि उन्होंने जिस प्रत्याशी को वोट दिया है उसी की पर्ची निकलेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here